कोरोना के लिए कोई नहीं है वीआईपी, नेता, मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को वायरस ले रहा है अपनी चपेट में
Vernacular

कोरोना के लिए कोई नहीं है वीआईपी, नेता, मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को वायरस ले रहा है अपनी चपेट में

TNA Contributor

TNA Contributor

देश में कोरोना की रफ्तार हर दिन तेजी के साथ बढ़ती जा रही है । अब यह खतरनाक वायरस नेता, मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को भी अपनी चपेट में लेता जा रहा है । कुछ दिनों पहले गृहमंत्री अमित शाह कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे । वही दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी पॉजिटिव मिले थे । उसके बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदुरप्पा भी पॉजिटिव हुए । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत कुछ मंत्री भी संक्रमित पाए गए थे ।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन भी इस कोविड-19 वायरस से नहीं बच सके । महाराष्ट्र में भी कई मंत्री नेता पॉजिटिव मिले थे । अब गोवा के मुख्यमंत्री भी कोरोना संक्रमित हो गए हैं । देश में कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा 40 लाख के करीब पहुंच चुका है । इस खतरनाक वायरस की चपेट में कई वीवीआईपी आ रहे हैं । अब गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है । वह असिम्टोमेटिक हैं और फिलहाल होम क्वारनटीन हैं । उन्होंने संपर्क में आए लोगों को होम क्वारनटीन होने की सलाह दी है।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के 14 मंत्री हुए हैं संक्रमित

पूरे देश भर में सबसे अधिक उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस से मंत्री संक्रमित हुए हैं । जन प्रतिनिधियों को इस महामारी निपटने के लिए और अधिक सावधान रहने की जरूरत है । जब यही नेता इस महामारी की चपेट में आते हैं तो आम जनता पर इसका अच्छा प्रभाव नहीं पड़ता है । जबकि सरकारों और मंत्रियों को चाहिए कि खुद ही लोगों को इसके प्रति जागरूक करें । हम आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश योगी सरकार में अभी तक 14 मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं।

इनमें डॉ. जीएस धर्मेश, मोहसिन रजा, सिद्धार्थनाथ सिंह, सतीश महाना, भूपेंद्र सिंह चौधरी, मोती सिंह, चौधरी उदय भान सिंह, जय प्रताप सिंह, ब्रजेश पाठक, धर्म सिंह सैनी, महेंद्र सिंह, उपेंद्र तिवारी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। वहीं, योगी सरकार में मंत्री कमल रानी वरुण और चेतन चौहान की कोरोना वायरस की वजह से मौत हो गई थी।

बता दें कि पिछले दिनों इलाहाबाद हाईकोर्ट में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को फटकार लगाते हुए पूछा था कि प्रदेश में लोग सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क क्यों नहीं पहन रहे हैं । अदालत ने प्रदेश के मुख्य सचिव को तलब करके सवाल जवाब किए थे, उसके बाद उत्तर प्रदेश में प्रशासन ने कोरोना वायरस के नियमों को सख्ती से लागूू किया है ।

उत्तराखंड के त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार के यह मंत्री अभी तक हो चुके हैं पॉजिटिव

प्रदेश के राजनीतिक गलियारे से जुड़े कई नेता अभी तक कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं । इनमें भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के अलावा कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, उनकी पत्नी और पूर्व मंत्री अमृता रावत, उनकी बहू और बेटा, पू्र्व स्वास्थ्य मंत्री तिलकराज बेहड़, पुरोला से विधायक राजकुमार, लैंसडॉन से विधायक दलीप रावत के भाई की पत्नी और कई सगे-संबंधियों का नाम शामिल है ।

इसी तरह बीजेपी के प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार, राजू भंडारी, प्रदेश प्रवक्ता प्रकाश रावत, सितारगंज से विधायक सौरभ बहुगुणा, रुद्रपुर से विधायक राजकुमार ठुकराल के भाई और उनकी बहू, रुद्रपुर के मेयर रामपाल, नैनीताल के बीजेपी जिलाध्यक्ष प्रदीप रावत और उनकी जिला कार्यकारिणी के बड़ी संख्या में पदाधिकारी भी कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं । इनके अलावा कांग्रेस के कई नेता भी कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं ।

सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क ही इस महामारी को हराने में फिलहाल सबसे बेहतर उपाय

जब तक इस महामारी का कोई ठोस इलाज सामने नहीं आता है तब तक इस वायरस को हराने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनना साथ में सैनिटाइजर का उपयोग ही बेहतर विकल्प माना जा रहा है । स्टडी में यह भी सामने आया है कि यह बीमारी देश में एक प्रमुख सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा बनी रहेगी। बड़े पैमाने पर मास्क का इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना भारत में एक दिसंबर तक कोविड-19 संबंधी दो लाख से अधिक मौतों को कम करने में मददगार सबित हो सकता है।

अमेरिका स्थित वॉशिंगटन विश्वविद्यालय के इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स ऐंड इवैल्यूएशन की एक स्टडी में बताया गया कि भारत में कोविड-19 संबंधी मौतों की संख्या में आगे कमी लाने का एक अवसर है। लोगों को लगातार मास्क का उपयोग करने के साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों और स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी रोकथाम संबंधी दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करने की आवश्यकता है। ऐसे में आप की भी जिम्मेदारी बनती है जब तक इस महामारी का कोई इलाज नहीं मिल जाता, केंद्र और राज्य सरकारों की गाइडलाइन का शत-प्रतिशत पालन करें, तभी आप इस खतरनाक वायरस से सुरक्षित रहेंगे ।

-- शंभू नाथ गौतम

The News Agency
www.thenewsagency.in