पूरे भारत के 200 किसान संगठनों ने एमएसपी को राष्ट्रीय मुद्दा बनाने का किया ऐलान

पूरे भारत के 200 किसान संगठनों ने एमएसपी को राष्ट्रीय मुद्दा बनाने का किया ऐलान

नयी दिल्ली, मार्च २३ (TNA) नई दिल्ली में नरेंद्र तिवारी हॉल, दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर एक बैठक हुई, जिसमें 20 से अधिक राज्यों के 200 से अधिक किसान संगठनों का प्रतिनिधित्व करने वाले नेताओं ने भाग लिया। नेताओं में प्रमुख थे उत्तर प्रदेश के वी.एम. सिंह, राजू शेट्टी-महाराष्ट्र, राम पाल जाट-राजस्थान, गुना। धर्मराजा-तमिलनाडु, डॉ. राजा राम त्रिपाठी-छत्तीसगढ़, पी.वी. राजगोपाल की एकता परिषद, राजेंद्र सिंह की गंगा जल पारादिरी, जसकरन सिंह-पंजाब, प्रदीप धनखड़-हरियाणा, ऑलफोंडबर्थ खरसिन्टीव और मेघालय के कमांडर शांगप्लियांग पूर्वोत्तर राज्यों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

यह निर्णय लिया गया कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के मोर्चे को एमएसपी गारंटी किसान मोर्चा कहा जाएगा और प्रतिभागियों ने मोर्चा के झंडे पर फैसला किया है जिसका इस्तेमाल राज्यों में एमएसपी की गारंटी की जागरूकता बढ़ाने के लिए एवं आगामी आंदोलन के लिए किया जाएगा ।

लगभग बीस राज्यों के समन्वयकों को नामित किया गया है जो अब से राज्य स्तर और जिला स्तरीय समितियों और जागरूकता कार्यक्रमों का गठन करेंगे और 22 मई, 2022 को नई दिल्ली में आयोजित होने वाली बैठक में अगले दो महीनों में प्रदर्शन के बारे में विवरण की रिपोर्ट देंगे । दिल्ली की बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि एमएसपी के पक्ष में जागरूकता कार्यक्रम का राष्ट्रीय मूल्यांकन करने के लिए 6, 7 और 8 अक्टूबर को दिल्ली में यूपी के समन्वयक वी एम सिंह के फार्म पर राष्ट्रीय स्तर का सम्मेलन आयोजित किया जाएगा.

चूंकि ध्वज सभी चार पहलुओं को शामिल करता है, सब्जियों, फलों, खाद्यान्नों, दालों और दूध । इसलिए यह उम्मीद की जाती है कि कई और संगठन जो इस बैठक से अवगत नहीं हैं, वे भी इसे राष्ट्रीय मुद्दा बनाने के लिए शामिल होंगे। नेताओं का दृढ़ विश्वास है कि एक बार जब पीएम ने संसद में स्वीकार कर लिया कि एमएसपी था, है और रहेगा तो फिर एमएसपी की कानूनी कानूनी गारंटी देने में क्या समस्या है।

नेताओं का यह भी दृढ़ विश्वास है कि यदि किसानों को कानूनी रूप से एमएसपी की गारंटी दी जाती है तो यह पीएम मोदी के पांच ट्रिलियन अर्थव्यवस्था के सपने को और भी करीब लाएगा। भले ही सरकार एमएसएमई/निगमों को अनुदान ऋण देती है, जब तक कि क्रय शक्ति उपभोक्ता के पास नहीं हो (उपभोक्ता का 65 प्रतिशत किसान और मजदूर हैं) उनके उत्पाद नहीं बेचे जाएंगे।

यदि MSP की गारंटी के कारण एक किसान को केवल दस हजार प्रति एकड़ प्रति वर्ष का लाभ मिलता है, तो यह कम से कम लगभग 4 लाख करोड़ रुपये होगा जो किसानों को अतिरिक्त रूप से प्रति वर्ष मिलेगा और चूंकि किसानों को बैंकों में पैसा डालने की आदत नहीं है, इसलिए वे बाजारों से तुरंत खरीदारी करेंगे जिससे बाजारों में उछाल सुनिश्चित होगा और इससे देश के सकल घरेलू उत्पाद में भी स्वत: ही वृद्धि होगी। यह निश्चित रूप से राष्ट्रहित में है और एमएसपी गारंटी किसान मोर्चा यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि किसानों को एमएसपी की गारंटी देने वाला कानून बनाया जाए ।

Related Stories

No stories found.