नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: भक्त के रिश्तेदार को दो महीने का जीवन दान!

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: भक्त के रिश्तेदार को दो महीने का जीवन दान!

महाराज जी की महासमाधि के बाद ऐसा हुआ जो मुझे उनके पास ले आया। मेरा छोटा देवर, कैंसर से मर रहा था, वह हम सब से दूर, बॉम्बे में कैंसर अनुसंधान संस्थान में था। डॉक्टरों ने हमें तार भेजा कि वह जल्दी मर जायेगा, हम सब बहुत दुखी थे। मैं जौनपुर (दिल्ली में महाराज मंदिर) गया, यह सोचकर कि अगर महाराजजी वास्तव में उतने ही महान संत हैं जितना लोग कहते हैं, तो वे हमारी मदद कर सकते हैं।

मैंने मंदिर जाकर तीन चीजों के लिए प्रार्थना की पहली, कि मेरे देवर की उम्र दो और महीने के लिए बढ़ा दी जाए।दूसरा, की मरने के समय वह अपने परिवार से घिरा हुआ हो। तीसरा, कि उसकी शांतिपूर्ण मृत्यु हो।इसके बाद हमें बंबई से खबर आयी की उसकी तबियत में सुधार है और वह दिल्ली वापिस आ गया, डॉक्टरों ने उसकी जांच की और उसे काम पर लौटने के लिए पर्याप्त रूप से फिट घोषित कर दिया।

यह छूट दो महीने और एक दिन तक चली, जब तक कि वह फिर से बीमार नहीं हो गया और अपने परिवार से घिरे हुए शांति से मर गया। लेकिन उसे एक दिन और क्यों मिला? वजह यह थी की वह दो महीने के अंतिम दिन महाराजजी के मंदिर गया और उसने प्रसाद प्राप्त किया, प्रसाद खाने से उसी दिन उसकी मृत्यु नहीं हो सकती थी।

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in