आगरा में रिवर कनेक्ट कैंपेन के सदस्यों ने नदियों को साफ़ रखने के लिए रखे महत्वपूर्ण प्रस्ताव

आगरा में रिवर कनेक्ट कैंपेन के सदस्यों ने नदियों को साफ़ रखने के लिए रखे महत्वपूर्ण प्रस्ताव

आगरा ।। रविवार सुबह 08 बजे यमुना आरती स्थल एत्माद्दौला व्यू पॉइंट, पर नदियों का हमारे जीवन में महत्व और उनको प्रदूषण मुक्त बनाने के सम्बन्ध में सभा हुई। जिसमे रिवर कनेक्ट अभियान के सदस्यों ने वर्तमान सरकार से के निम्नलिखित प्रस्ताव रखा।

रिवर कनेक्ट कैंपेन के सूत्रधार ब्रज खंडेलवाल ने बताया कि आगरा यमुना रिवर कनेक्ट अभियान वर्ष 2014 से लगातार छः वर्षों से जीवन-दायिनी यमुना में अविरल जल धारा व उसको प्रदूषण मुक्त कैसे किया जाए इसके लिए समर्पित भाव से पूरी तरह प्रयासरत है। दुनिया की बहुत सारी नदियों की तरह आजकल भारतीय नदियों का पानी भी प्रदूषित हो चुका है, जबकि इन नदियों को हमारी संस्कृति में हमेशा पवित्र जगह दी जाती रही है। पर साथ ही, भारत के लोग इन नदियों से मुंह नहीं फेर सकते। वे देश की जीवन रेखाएं हैं और भारत का भविष्य कई रूपों में हमारी नदियों की सेहत से जुड़ा हुआ है।

भारत में नदी प्रदूषण को प्रदूषण मुक्त करने के प्रस्ताव-

  • वर्तमान नदियों में प्रदूषण की इस समस्या को कम समय में ही सुलझाया जा सकता है और इसके लिए टेक्नोलॉजी पहले से ही मौजूद है। बस जरूरत है सख्त नियमों की और उन्हें लागू कराने के लिए पक्के इरादों की। हमें स्वयं जाकर नदियों को साफ़ करने की जरुरत नहीं है। अगर हम नदियों को प्रदूषित करना छोड़ दें, तो वे स्वयं को एक बरसात के मौसम में ही साफ कर लेंगी।

  • भारत एक राष्ट्र के रूप में अगर नदी प्रदूषण पर काबू पाने के लिए यदि पूरी तरह गंभीर है, तो इसके लिए केंद्रीय नदी प्राधिकरण बनाने की जरूरत है। क्योंकि अब तक इन नदियों को गम्भीरता पूर्वक प्राथमिकता नहीं दी गई है।

  • भारत में रासायनिक और औद्योगिक कचरे वाले कई उद्योग अपने गंदे जल का वाटर ट्रीटमेंट प्रोसेस तभी करते हैं, जब सम्बन्धित विभाग का इंस्पेक्टर मौजूद हो। जब उनके ऊपर निगरानी नहीं होती, तो कई उद्योग गंदे जल को साफ़ किए बिना ही नदियों में बहा देते हैं। अगर हम चाहते हैं कि यह वाटर ट्रीटमेंट प्रॉसेस असरदार हो, तो यह महत्वपूर्ण है कि गंदे जल के उपचार को भी एक बढ़िया व्यवसाय बनाया जाए। सरकार को बस नदी में जाने वाले जल की गुणवत्ता के लिए मानक तय करने होंगे।

  • नदियों में मृत जानवरों को नहीं फेंकना चाहिए। नदी किनारे बसे लोगों को नदी में गंदे कपड़े नहीं साफ करने चाहिए। क्योंकि गंदे व दूषित कपड़े के रोगाणु पानी में दूर-दूर तक फैलकर बीमारी फैला सकते हैं। नदी में डिटर्जेट पाउडर, साबुन का प्रयोग और जलीय जीवों के शिकार से परहेज करना चाहिए। क्योंकि नदी के जीवों जैसे मछली, कछुआ, घड़ियाल, मेढ़क आदि प्रदूषण को दूर करते हैं। प्रदूषण दूर करने को ले सरकार को जागरूकता कार्यक्रम चलाना चाहिए।

  • नदियों को प्रदूषण रहित बनाने के लिए शहर के गंदे नालों को रोकने के साथ-साथ नदी किनारे मल-मूत्र त्याग करने और धोबी-घाटों पर भी प्रतिबंध होना चाहिए। वर्तमान में पवित्र नदियों में शहर के गंदे पानी को गिरने से रोकने की प्रबल आवश्यकता है। और हमारी पवित्र नदियों को प्रदूषण रहित बनाना वर्तमान में हरेक व्यक्ति का लक्ष्य होना चाहिए।

  • दिल्ली - आगरा के मध्य स्टीमर फेरी सेवा पर्यटको के लिए शीघ्र शुरू करे जैसे कि वायदा किया था, माननीय मुख्यमंत्री योगी जी से मांग की गई कि यमुना पर ताज के डाउनस्ट्रीम बैराज का निर्माण अति शीघ्र किया जाय, मेट्रो का कार्य बाद में।

  • यमुना की सफाई, डिसल्टिंग की पुख्ता व्यवस्था हो। नालो को टेप किया जाय।

रिवर कनेक्ट कैंपेन के सदस्यों ने मोदी सरकार से राष्ट्रीय नदी नीति व् केंद्रीय नदी प्राधिकरण के गठन की मांग की एवं बताया कि हिंदू धर्म में लोग जिस तरह आसमान में सप्त ऋषि के रूप में सात तारों को पूज्य मानते हैं, उसी तरह पृथ्वी पर सात नदियों को पवित्र मानते हैं। जिस प्रकार आसमान में ऋषि भारद्वाज, ऋषि वशिष्ठ, ऋषि विश्वामित्र, ऋषि गौतम, ऋषि अगत्स्य, ऋषि अत्रि एवं ऋषि जमदग्नि अपने भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए विराजमान हैं, उसी तरह पृथ्वी पर सात नदियां गंगा, यमुना, सरस्वती, नर्मदा, कावेरी, शिप्रा एवं गोदावरी अपने भक्तों की सुख एवं समृद्धि का प्रतीक मानी जाती हैं। गंगा नदी को स्वर्ग लोक से पृथ्वी पर लाने के लिए राजा भगीरथ द्वारा भगवान महादेव के तप की पौराणिक कथा पूरे देश में लोकप्रिय है।

रिवर कनेक्ट कैंपेन के सदस्यों ने बताया कि देश में नदियों के योगदान एवं महत्व का अनुमान इसी तथ्य से लगाया जा सकता है कि वाराणसी आज विश्व के प्राचीनतम नगर एवं प्राचीनतम जीवित सभ्यता के रूप में जाना जाता है और वाराणसी गंगा के तट पर बसा हुआ है। आज वाराणसी विश्व में धार्मिक, शैक्षिक, पर्यटन, सांस्कृतिक एवं व्यापारिक नगर के रूप में प्रतिष्ठित है। इसके अलावा प्रयाग, अयोध्या, मथुरा, आगरा, नासिक, उज्जैन, गुवाहाटी, गया, पटना आदि सभी प्रमुख प्राचीन शहर नदियों के किनारे ही बसे हुए हैं। इसी तरह दिल्ली, कानपुर, लखनऊ, अहमदाबाद, सूरत, हैदराबाद, मैसूर, हुबली आदि आधुनिक नगर भी नदियों के तट पर ही बसे हुए हैं।

कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि भारत में प्राचीन काल से ही नदियों का अत्यधिक महत्व रहा है और आज भी बहुत हद तक हमारा जीवन नदियों पर निर्भर है। इनके प्रति सम्मान का भाव बनाए रखना इसलिए जरूरी है ताकि हम इनकी स्वच्छता और पवित्रता को चिरकाल तक बनाए रख सकें। इनका जल हमारे लिए उपयोगी हो सकेगा और हम लंबे समय तक इनका लाभ उठा सकेंगे।

सभा में सर्व श्रवण कुमार, पद्मिनी अय्यर, यमुना आरती महंत नंदन श्रोत्रिय, डॉ देवाशीष भट्टाचार्य, जुगल श्रोत्रिय, राहुल राज, दीपक राजपूत, पंडित प्रमोद गौतम, शाहतोष गौतम, दिलीप जैन, अमित कोहली, निधि पाठक, डॉ हरेंद्र गुप्ता, विकास, जगन प्रसाद, मोहन, नीलम कश्यप, शिवम्, सोनवीर, सुरजीत, रोहित गुप्ता, रंजन शर्मा आदि ने भाग लिया।

Related Stories

The News Agency
www.thenewsagency.in