धर्म की रक्षा के लिए मैनपुरी में किया गया नारायणी सेना का गठन

धर्म की रक्षा के लिए मैनपुरी में किया गया नारायणी सेना का गठन

गौमाता को राष्ट्रीय पशु व कृष्ण जन्मभूमि को मुक्त करना लक्ष्य

मैनपुरी ।। स्टेशन रोड स्थित माधव गेस्ट हाउस के प्रांगण में नारायणी सेना की एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में नारायणी सेना के उद्देश्य की पूर्ति के लिए मैनपुरी जनपद की इकाई का गठन किया गया। इस दौरान बैठक में कृष्ण भक्तों को जिम्मेदारी देकर नारायणी सेना का विस्तार किया गया। बैठक में नारायणी सेना के संस्थापक व संरक्षक मनीष यादव पतरे ने धर्म की रक्षा के लिए नारायण सेना का गठन बताया है। जिसमें संरक्षक ने 2 दर्जन से अधिक पदाधिकारियों की घोषणा करते हुए उन्हें शुभकामनाएं दी है।

नारायणी सेना के संस्थापक व संरक्षक मनीष यादव पतरे ने बताया है कि नारायणी सेना एक गैर राजनीतिक व सामाजिक व धार्मिक संगठन है। इसका उद्देश्य जैसे उपेक्षित पड़े मंदिरों का जीर्णोद्धार कराना, साधु संतों की सेवा व सुरक्षा और गौ माता को राष्ट्रीय पशु घोषित करा कर उनको सेवा करना और सामाजिक कार्यों के करने के विषय पर चर्चा की गई। साथ ही नारायणी सेना का मुख्य उद्देश्य श्री कृष्ण जन्मभूमि पर भी भव्य मंदिर के निर्माण के लिए समुचित उत्तर प्रदेश में संगठन बनाकर श्री कृष्ण जन्म भूमि को मुक्त कराने के लिए जन आंदोलन चलाएगी। क्

योंकि सन 1018 से महबूब गजनबी से लेकर सोलवीं सदी के सिकंदर लोदी के बाद औरंगजेब ने श्री कृष्ण के मंदिर को ध्वस्त किया। और उस पर मस्जिद का निर्माण करवा दिया था। इसके बाद 1951 में उद्योगपति बिरला जी ने उसी मस्जिद के बगल में जमीन खरीद कर वहां मंदिर का निर्माण कराया गया। इसके बाद 1951 में उद्योगपति बिरला जी ने उसी मस्जिद के बगल में जमीन खरीद कर वहां मंदिर का निर्माण कराया गया।

किंतु गर्भ गिरह पर आज भी मस्जिद बनी है जो हिंदू जनमानस के साथ अन्याय है। हिंदू समाज अब अपने आराध्य भगवान श्री कृष्ण की जन्म भूमि को मुक्त कराने के लिए आगे बढ़ना होगा। और इसके लिए हिंदू व संत समाज को जोड़कर आंदोलन को आगे बढ़ाना होगा।

नारायणी सेना श्री कृष्ण जन्मभूमि आंदोलन को दो स्तर पर चलाएगी। जिसमें एक समुचय देश भर के लोगों को जागरूक कर हस्ताक्षर अभियान चलाकर गति देगी। वही इतिहासकारों, पुरातत्व विभाग, शास्त्र आदि के साक्ष्यों को संकलन करके उपासना स्थल अधिनियम 1991 विशेष प्रावधान की धारा 5 में दी गई व्यवस्था के तहत न्यायालय के माध्यम से भी इस लड़ाई को पुरजोर तरीके से लड़ेगी। यह आंदोलन को व सामाजिक कार्यों को करने के लिए नारायणी सेना का विस्तार किया गया है।

विस्तार के क्रम में मैनपुरी जनपद के जिला प्रभारी गौरव यादव बरनाहल, जिला प्रमुख के पद पर करहल के प्रमुख समाजसेवी चंद्रपाल सिंह रूबी, जिला सह प्रमुख पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष स्व मदन चौहान के पुत्र शिवम चौहान को मनोनीत किया गया। साथ ही 11 सदस्य चुनाव संचालन समिति का गठन किया गया। इसके साथ ही जिले व नगर पालिका और ब्लॉक प्रमुख प्रमुखों को भी मनोनीत किया गया है।

जिसमे मैनपुरी आदित्य यादव, ब्लॉक करहल प्रमुख अंकुर यादव, ब्लॉक बरनाहल प्रमुख कौशलेंद्र सिंह गौर, सह प्रमुख विपिन यादव, ब्लाक प्रमुख देवांश यादव, सह प्रमुख नरेंद्र कुमार, ब्लॉक जागीर प्रमुख बब्लू यादव, सह प्रमुख प्रदीप यादव, ब्लाक सुल्तानगंज प्रमुख पवन यादव, सह प्रमुख निशांत यादव, ब्लाक बेबर प्रमुख सोनू यादव, सहप्रमुख सुशील राजपूत, ब्लॉक किशनी प्रमुख आदित्य दीक्षित व सहप्रमुख पिंकू सिकरवार समेत आदि तमाम नामो की घोषणा की है।

इस अवसर पर सुभाष मिश्रा, भाजपा करहल मण्डल अध्यक्ष डॉ रवी यादव, जिला मंत्री मनोज कश्यप, मन्नू यादव, गौरव यादव, बिल्लू यादव, अरुण यादव समेत आदि तमाम लोग मौजूद रहे।

-- मनीष मिश्रा

Related Stories

The News Agency
www.thenewsagency.in