मैनपुरी जिलाधिकारी ने भोगांव में महिला हेल्प-डेस्क का किया शुभारंभ

मैनपुरी जिलाधिकारी ने भोगांव में महिला हेल्प-डेस्क का किया शुभारंभ

मैनपुरी।। जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह, पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पांडेय ने कोतवाली भोगांव में महिला हेल्प-डेस्क का लोकार्पण शुक्रवार को किया। प्रदेश के मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार महिलाओं की समस्याएं थानों पर सुनने के लिए सभी थानों में हेल्प-डेस्क की शुरुआत की गई है, जहां महिला पुलिसकर्मी 24 घंटे मौजूद रहकर महिलाओं की समस्याएं सुनेगी, और उनका त्वरित निदान कराने में पीडि़त महिला का सहयोग करेंगी।

जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह ने इस अवसर पर उपस्थित महिलाओं, बालिकाओं का आह्वान करते हुए कहा कि बालिकाएं मेहनत से पढ़ाई करें और समाज में आगे बढ़ें यदि बालिका शिक्षित होगी और उसे शासन की योजनाओं, अच्छे-बुरे की जानकारी होगी तो महिला अपराध में कमी आएगी, पढ़ी-लिखी, शिक्षित बालिकाएं आत्मनिर्भर बनेंगी तभी अपने और अपने परिवार के विकास में सहयोग दे सकेंगी।

उन्होंने बालिकाओं से कहा कि ऐसा कोई कृत्य न करें जिसे परिवार को बताने में असुविधा हो यदि कहीं कोई समस्या हो तो छिपाए नहीं बल्कि तत्काल जिला प्रशासन के संज्ञान में लाएं, संबंधित थाने पर जाकर महिला हेल्प-डेस्क पर तैनात महिला पुलिस कर्मियों को जानकारी दें, छेड़खानी, महिला उत्पीड़न की दशा में हेल्पलाइन 1090, 181 पर शिकायत दर्ज कराएं, तत्काल सहायता हेतु पुलिस हेल्पलाइन 112 पर कॉल कर जानकारी दे।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने महिलाओं के सशक्तिकरण, स्वाबलंबन एवं उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए तमाम योजनाएं संचालित की हैं, बेटी परिवार पर बोझ न रहे इसलिए कन्या सुमंगला योजना, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना संचालित कर मां-बाप के सर से बेटियों का बोझ हल्का किया है, गरीब परिवार की बेटियों की शादी शान-ओ-शौकत के साथ सरकारी खर्चे पर करायी जा रही है।

सिंह ने कहा कि थानों पर स्थापित हेल्प-डेस्क पर महिलाओं की समस्याओं को प्राथमिकता पर सुनते हुए तत्काल कार्यवाही की जाएगी वहीं रात को यदि महिला थाने में शिकायत करने के लिए जाती है तो महिला की समस्याओं का निदान करते हुए रात को सुरक्षित घर पहुंचाने की जिम्मेदारी भी महिला पुलिस की होगी, महिला हेल्प डेस्क पर 24 घंटे काम करेगी, इसके लिए डेस्क पर महिला दरोगा, महिला कांस्टेबल तैनात रहेगें।

उन्होने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा प्राथमिकता पर रखी गई है, प्रदेश में महिलाओं व बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलंबन के लिए 180 दिन का विशेष अभियान मिशन शक्ति संचालित है। उन्होने कहा कि आज बालिकाएं शिक्षित होकर अपने जीवन में नई ऊँचाइयों को छू रही है, फिर भी वह अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित है, महिला अत्याचार घरेलू हिंसा, सामाजिक संस्थानों पर नारी शोषण, दहेज को लेकर कई प्रकार से परेशान किया जाता है, अत्याचारों से बचने के लिए महिला का जागरूक होना अति आवश्यक है, अभियान के दौरान महिलाओं को जागरूक करने के लिए तमाम कार्यक्रम संचालित है ताकि महिलाएं, बालिकाएं जागरूक हों और सम्मान के साथ अपना जीवन-यापन करें।

पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पांडेय ने कहा कि प्रदेश के मुखिया के नेतृत्व में मिशन शक्ति कार्यक्रम नवरात्रि के पहले दिन प्रारंभ हुआ और इस कार्यक्रम का लक्ष्य महिलाओं, बालिकाओं को सशक्त बनाना, उन्हें योजनाओं की जानकारी पहुंचाना है।

उन्होंने कहा कि आज से प्रत्येक थाने में महिला हेल्प-डेस्क की शुरुआत हुई है यदि किसी कोई महिला को कोई भी समस्या हो तो बेझिझक थाने पर जाकर अपनी समस्याएं बताएं, चुप्पी तोड़ना है-खुलकर बोलना है, के तहत कोई अपराध होने की दशा में चुप न रहें, बदनामी के डर से अत्याचार, उत्पीड़न न झेलें, अत्याचार होने पर चुप रहने से उसका सीधा प्रभाव मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है, किसी घटना के कारण पैदा हुआ डर ताउम्र परेशान करता है इसलिए महिलाएं, बालिकाएं निडर होकर दुर्व्यवहार, अत्याचार करने वालों का सामना करें, पुलिस प्रशासन पीडि़त महिला के साथ कंधे से कंधा मिला कर खड़ा है, आवश्यकता पड़ने पर तत्काल पीडि़त की मदद मिलेगी।

उन्होने उपस्थित बालिकाओं से कहा कि छेड़खानी, अन्य किसी उत्पीड़न के बारे में अपनी मॉ को जरूर बताएं, बेटी के लिए मॉ से अच्छा कोई दोस्त नहीं हो सकता, यदि आवश्यक समझें अपनी महिला टीचर से भी चर्चा करें, चुप रहकर उत्पीड़न को सहन न करें।

कार्यक्रम में कस्बा भोगांव में घर में घुस 03 बदमाशों से बहादुरी के साथ सामना करने वाली गरिमा शर्मा ने कहा कि महिलाएं, बालिकाएं अपने अंदर साहस पैदा करें, उनके साथ घटित घटना मे पुलिस ने तत्परता दिखाई और उनका लूटा हुआ सभी सामान पुलिस ने बरामद कर वापस कराया, घटना में संलिप्त तीनों अभियुक्तों को जेल भेजा गया, पुलिस द्वारा दिये गये हौसले के कारण उनके अंदर अन्याय से लड़ने का जज्बा पैदा हुआ।

महिला हेल्प-डेस्क पर तैनात डस्क ऑफीसर नीता महेश्वरी, सोनिया लवानिया को महिला जागरूकता में अच्छा कार्य करने पर प्रशस्ति पत्र प्रदान किये। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी भोगांव सुधीर कुमार, जिला प्रबोशन अधिकारी अरविन्द कुमार, अधिशाषी अधिकारी भोगांव आर.के. सिंह, प्रभारी निरीक्षक पहुप सिंह सहित बड़ी संख्या में बालिकाएं, महिलाएं आदि उपस्थित रहे।

-- मनीष मिश्रा

Related Stories

The News Agency
www.thenewsagency.in