भारत पूर्ण रूप से नॉन जीएमओ चावल का निर्यात कर रहा है, सफेद चावल के निर्यात के चलते जीएमओ की मिलावट संभव नहीं है!

भारत पूर्ण रूप से नॉन जीएमओ चावल का निर्यात कर रहा है, सफेद चावल के निर्यात के चलते जीएमओ की मिलावट संभव नहीं है!

नयी दिल्ली, अक्टूबर २१ (TNA) भारत सरकार द्वारा प्रेस से जुड़े एक हिस्से में भारत से जीएम चावल को कथित रूप से वापस मंगाने से संबंधित एक समाचार का ज़ोरदार खंडन किया गया है। एक सरकारी अधिकारी ने स्पष्ट करते हुए कहा की भारत में जीएम चावल की कोई व्यावसायिक किस्म नहीं होती है, वास्तव में भारत में व्यावसायिक जीएम चावल की कृषि पूरी तरह प्रतिबंधित है।

इसलिए, भारत से जीएम चावल के निर्यात का सवाल ही नहीं उठता है। ईयू द्वारा त्वरित अलर्ट के माध्यम से दी गई एक विशेष घटना की खबर में, चावल के आटे में जीएमओ के पाए जाने का संदेह है, जिसे ईयू में प्रसंस्कृत किया जाता है और उन्हें खुद दूषित पदार्थ के वास्तविक स्रोत का पता नहीं है। भारत से सफेद चावल के टुकड़े का निर्यात किया गया है, जिसके कथित रूप से ईयू में वास्तविक प्रोसेसर के पास तक पहुंचने से पहले कई जगहों से गुजरने की संभावनाएं हैं।

इस दौरान, हर चरण पर मिलावट या दूषित पदार्थों के मिलने की हमेशा ही संभावना रहती है। हालांकि, निर्यातक ने इस बात की पुष्टि की है कि निर्यातित चावल नॉन जीएमओ था और अंतर्देशीय पारगमन के दौरान भी इसमें दूषित पदार्थों के मिलने की संभावना बेहद कम होती है, क्योंकि बंदरगाह पर अंतिम नमूना लेने वाली स्वतंत्र निरीक्षण एजेंसी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली होती है जो लदान से पहले पर्याप्त परीक्षण और सत्यापन के बाद ही नॉन जीएमओ प्रमाणन जारी करती है। अगर कोई प्रदूषित पदार्थ मिले हैं तो अंतिम उत्पाद तैयार करने के दौरान टूटे हुए चावल के प्रसंस्करण के दौरान इसकी संभावना हो सकती है।

चूंकि, भारत में जीएम की कोई व्यावसायिक किस्म नहीं है, माल के लदान से पहले जरूरी परीक्षण भी किया जाता है। इसलिए, भारत द्वारा सफेद चावल के निर्यात के कारण जीएमओ मिलावट की संभावना नहीं है। इससे जुड़े समाचारों का प्रकाशन, दुनिया में गुणवत्तापूर्ण चावल के एक भरोसेमंद आपूर्तिकर्ता के रूप में भारत की छवि बिगाड़ने की एक साजिश हो सकती है, अधिकारी ने आगे कहा।

भारत में जेनेटिक इंजीनियरिंग अप्रेजल कमेटी (जीईएसी) के विशेषज्ञ और आईएआरआई के कृषि विशेषज्ञ व भारत में अन्य चावल विशेषज्ञ इस मामले की जांच कर रहे हैं, फिर भी इस बात की पुष्टि की जाती है भारत में चावल की जीएम किस्म पैदा नहीं की जाती है।

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in