आज रैपिड रेल की दुनिया से जुड़ेगा यूपी, मोदी दिखायेंगे हरी झंडी

आज रैपिड रेल की दुनिया से जुड़ेगा यूपी, मोदी दिखायेंगे हरी झंडी

लखनऊ, अक्टूबर 20 (TNA) उत्तर प्रदेश में भले ही लखनऊ मेट्रो का दूसरा चरण छह वर्षों में नहीं शुरू हो सका, लेकिन 20 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हरी झंडी दिखाते ही देश और उत्तर प्रदेश उन देशों की कतार में शामिल हो जाएगा जहां पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिए रैपिड रेल जैसी सुविधाएं मौजूद हैं. जी हां, 20 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गाजियाबाद के साहिबाबाद में देश के पहले दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे.

इसके बाद 82 किलोमीटर लंबे दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरिडोर के 17 किलोमीटर की प्राथमिकता वाला खंड चालू हो जाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 मार्च, 2019 को दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर की आधारशिला रखी थी. 20 अक्टूबर को शुरू होने वाली यह रैपिड रेल कई खूबियों के कारण दुनिया का हाईटेक रैपिड रेल प्रोजेक्ट है. करीब 30,274 करोड़ रुपए की लागत वाले रैपिड रेल प्रोजेक्ट के लिए कॉरिडोर निर्माण का कार्य राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (एनसीआरटीसी) कर रही है.

इस परियोजना के जुड़े अफसरों के अनुसार एनसीआरटीसी ने रैपिड रेल के संचालन और रखरखाव के लिए डॉयचे बॉन इंजीनियरिंग ऐंड कंसल्टेंसी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (डीबी इंडिया) के साथ 12 सालों के लिए एग्रीमेंट किया है. रैपिड रेल बेहद ही खास है. इसमें रिक्लाइनिंग सीटों वाला एक प्रीमियम कोच है. महिलाओं के लिए एक अलग कोच है और दिव्यांगों के लिए अनुकूल सुविधाएं इसमें मौजूद हैं.

देश में पहली बार सिग्नलिंग सिस्टम और प्लेटफार्म स्क्रीन डोर के साथ इसे लिंक किया गया है. सबसे तेज चलने वाली रैपिड रेल पर 21 अक्टूबर से यात्री सफर कर सकेंगे. दिल्ली से 50 किलोमीटर दूर ईस्टर्न पेरीफेरल हाईवे के किनारे मोदीनगर के गांव दुहाई में बने डिपो में खड़ी देश की पहली रैपिड रेल 20 अक्टूबर को डिपो से निकल कर गाजियाबाद के साहिबाबाद स्टेशन पर पहुंचेगी. जहां प्रधानमंत्री इसे झंडी दिखाकर रवाना करेंगे. इस अवसर पर केंद्रीय रेल मंत्री के अलावा सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे. रैपिड रेल द्वारा दिल्ली से मेरठ की यात्रा 50 मिनट में पूरी हो सकेगी.

— राजेंद्र कुमार

logo
The News Agency
www.thenewsagency.in