मैनपुरी में चिकित्सकों ने खून की कमी होने का कारण बता प्रसव करने से मना किया, सड़क किनारे महिला ने जना बच्चा

मैनपुरी में चिकित्सकों ने खून की कमी होने का कारण बता प्रसव करने से मना किया, सड़क किनारे महिला ने जना बच्चा

मैनपुरी ।। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुरावली पर आई प्रसूता को महिला चिकित्सकों द्वारा खून की कमी होने का कारण बताकर प्रसव करने से मना कर दिया गया। वहां से लौटी प्रसूता द्वारा नगर के जीटी रोड किनारे स्थित ऊषा क्लीनिक के बहार सड़क पर प्रसव हो जाने की सूचना पर सामुदायिक महिला चिकित्सकों में हडकंप मच गया। आनन फानन में प्रसूता को सीएचसी पर भर्ती कराया गया। जहां जच्चा बच्चा का उपचार किया गया।

आपको बता दें कि क्षेत्र के ग्राम दोली खिरिया डेरा बंजारा निवासी शरीफ बंजारा की पत्नी सलमा प्रसव के लिये सीएचसी कुरावली पर आई, तो महिला चिकित्सक ने सलमा के शरीर मे खून की कमी का बहाना बनाकर अस्पताल में भर्ती करने से मना कर दिया। परेशान परिजन नजदीकी नर्स मिथिलेश दिवाकर के यहां गये तो उन्होंने भी सलमा के शरीर में खून की कमी होने के कारण प्रसव करने से मना कर दिया।

जिसके बाद परेशान महिला अपने परिजनों के साथ नगर के ऊषा क्लीनिक पर जा रही थी, तभी रास्ते में फौजी शटरिंग के सामने जीटी रोड पर पर प्रसव पीड़ा बढ़ने से सलमा परेशान होने लगी और वहीं गिर गई, जब जाकर साथी महिलाओं ने सड़क के किनारे ही प्रसव कराया।

जिसमें सलमा ने एक बच्ची को जन्म दिया जो स्वस्थ है। सूचना के बाद चिकित्सा अधीक्षक डॉ एमएस चौहान के निर्देश पर एंबुलेंस द्वारा जच्चा व बच्चा दोनों को सीएचसी पर भर्ती कराया गया। सड़क के किनारे जन्मी बच्ची के मौके पर देव सिंह यादव, गुड्डू राठौर, श्याम पाल फौजी, अनिल गुप्ता, सुनील कुमार सहित राहगीरों की भीड़ मौजूद थी ।

इस सम्बंध में चिकित्साधीक्षक डॉ एमएस चौहान ने बताया कि कि महिला के शरीर में खून की कमी होने के कारण उसे जिला अस्पताल भेजा गया था। लेकिन उक्त महिला के परिजन प्रसव से पीड़ित सलमा को जिला अस्पताल न ले जाकर प्राइवेट क्लीनिक पर ले जा रहे थे, जबकि अस्पताल में एंबुलेंस द्वारा सलमा को जिला अस्पताल भेजा जा रहा था। परंतु उक्त महिला के परिजन ने कहा उनके पास खर्चे की व्यवस्था नहीं है। व्यवस्था करने के बाद वह जिला अस्पताल चले जाएंगे।

-- मनीष मिश्रा

Related Stories

The News Agency
www.thenewsagency.in