अभिनेता सुशांत सिंह मौत की सीबीआई जांच को लेकर दलों में शुरू हुई 'हार-जीत की पॉलिटिक्स'
Vernacular

अभिनेता सुशांत सिंह मौत की सीबीआई जांच को लेकर दलों में शुरू हुई 'हार-जीत की पॉलिटिक्स'

जेडीयू और भाजपा ने इसे सीधे अपनी जीत बताया तो शिवसेना ने इसे अपनी पार्टी की छवि धूमिल और मुंबई पुलिस की किरकिरी होने पर जुबानी जंग भी शुरू हो गई

शम्भू नाथ गौतम

फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की सच्चाई जानने के लिए जहां एक ओर परिवारी जन, प्रशंसक और देश की जनता में पिछले दो महीने से इंतजार के साथ आक्रोश बना हुआ है । दूसरी ओर राजनीतिक दलों में इसका श्रेय लेने के लिए होड़ मची हुई है । अभिनेता की मौत के मामले में भी भाजपा, शिवसेना, जेडीयू और राजद इसमें अपना वोट बैंक तलाश रहीं हैं ।

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए इसकी जांच सीबीआई से कराने के आदेश दिए हैं । कोर्ट के इस आदेश के बाद देश में सियासत भी शुरू हो गई ।‌ जेडीयू और भाजपा ने इसे सीधे अपनी जीत बताया तो शिवसेना ने इसे अपनी पार्टी की छवि धूमिल और मुंबई पुलिस की किरकिरी होने पर जुबानी जंग भी शुरू हो गई ।

यहां हम आपको बता दें कि अभिनेता सुशांत सिंह की मौत की जांच सीबीआई से कराने को लेकर बिहार और महाराष्ट्र सरकारों में झूठ और सच के साथ निष्पक्षता को लेकर दो महीनों से भिड़ंत जारी थी । यही नहीं दिवंगत अभिनेता की मौत के मामले में जेडीयू और शिवसेना के बीच भाजपा भी श्रेय लेने के लिए कूद जाती थी ।

गौरतलब है कि 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत ने मुंबई के फ्लैट में आत्महत्या की थी, जिसके बाद मुंबई पुलिस ही इस मामले की जांच कर रही थी । अभिनेता की मौत की शुरुआती जांच मुंबई पुलिस के करने पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाएं और सवाल खड़े किए ।

सुशांत के पिता ने इस मामले में बिहार में केस दर्ज करवाया, जिसके बाद बिहार पुलिस की इस मामले में एंट्री हुई, लेकिन महाराष्ट्र सरकार की ओर से इस पर आपत्ति दर्ज कराई गई थी । यही नहीं नीतीश सरकार ने मुंबई में बिहार पुलिस पर दुर्व्यवहार करने के भी आरोप लगाए थे । महाराष्ट्र सरकार लगातार इस मामले में सीबीआई जांच का विरोध कर रही थी । उसका कहना था कि यह मामला मुंबई पुलिस के पास ही रहने दिया जाए।

महाराष्ट्र में भाजपा को शिवसेना पर मिला हमला करने का मौका

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला सुप्रीम कोर्ट के सीबीआई को सौंपने के बाद महाराष्ट्र में शिवसेना सरकार पर भाजपा हमलावर हो गई है । बता दें कि भाजपा के वरिष्ठ नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस शुरू से ही सुशांत सिंह की मौत को लेकर उद्धव ठाकरे सरकार और मुंबई पुलिस पर निशाना साधते रहे हैं । अब फडणवीस ने इसे इससे सत्य की जीत बताते हुए शिवसेना पर तंज कसा है ।

दूसरी ओर महाराष्ट्र भाजपा के वरिष्ठ नेता नीतीश राणे ने कहा कि अब 'बेबी पेंग्विन तो गयो' । वैसे राणे ने अभी बेबी पेंग्विन कौन है ? इसको स्पष्ट नहीं किया है । इसके अलावा कई भाजपा के नेताओं ने सत्यमेव जयते लिख कर खुशी जताई । इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी लगातार सक्रिय हैं । वह उनकी मौत के मामले में सीबीआई जांच की मांग भी कर रहे थे ।

पिछले दिनों दिवंगत अभिनेता के पिता केके सिंह ने अभिनेत्री व सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी। जिसके बाद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या हुई है। भाजपा नेता स्वामी अभिनेता की मौत के मामले की सीबीआई जांच करवाने के अलावा इस पर अपनी राय भी लगातार देतेे आ रहे हैं ।

दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मुझे इस बात का संतोष है कि सुप्रीम कोर्ट के तत्वाधान से इस केस में साफगोई और त्वरित तरीके से जांच होगी । इसके साथ भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी उद्धव ठाकरे सरकार पर हमला बोला । गोरखपुर से भाजपा के सांसद और भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार रवि किशन ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए नाराजगी शिवसेना सरकार पर निशाना साधा ।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि फैसले से साफ हो गया कि बिहार सरकार की पूरी प्रक्रिया सही थी । अब मुझे पूरा भरोसा है कि सुशांत और उनके परिवार को न्याय मिलेगा । ऐसे ही राजद नेता और लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने इसे बिहार में चुनाव को देखते हुए वोट बैंक का कार्ड खेला और इसमें श्रेय लेने की कोशिश की ।

शिवसेना बोली, बिहार में दिवंगत अभिनेता के नाम पर हो रही वोट बैंक की राजनीति

मुंबई पुलिस, महाराष्ट्र सरकार और शिवसेना के कई नेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआई जांच की मांग को लेकर बिहार चुनाव से प्रेरित बताया । शिवसेना नेता और राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने कहा कि अभिनेता की मौत के मामले में बीजेपी के नेता उद्धव ठाकरे सरकार को बदनाम कर रहे हैं । संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र में कानून की व्यवस्था सबसे उपर है । यहां सत्य और न्याय की जीत हमेशा होती है । भारतीय जनता पार्टी की ओर से महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख का इस्तीफा मांगने पर राउत ने कहा कि अगर इस्तीफे की बात निकलेगी तो दिल्ली तक जाएगी । सोच समझकर भाजपा नेताओं को टिप्पणी करनी चाहिए ।

नेता ने कहा कि सुशांत केस में पहले दिन से राजनीति हो रही है । अब इस मामले में महाराष्ट्र सरकार बैकफुट पर दिखाई दे रही है। महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने कोर्ट के फैसले पर अपनी खुशी जताई है। उन्होंने कहा कि अब महाराष्ट्र सरकार को इस बात पर गहन विचार करना चाहिए कि आखिर सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला राज्य में संभाला गया।

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के सिलसिले में पटना में दर्ज केस को मुंबई ट्रांसफर करने के लिए फिल्म अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है । फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया कि मामले की आगे की जांच सीबीआई करेगी। सुप्रीम कोर्ट ने पटना में दर्ज को सही ठहराया है । दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत बिहार के ही निवासी थे । बता दें कि बिहार में इसी वर्ष के आखिरी में विधानसभा चुनाव होना है । भाजपा और जेडीयू इन चुनावों में सुशांत सिंह केस को पूरी तरह वोट बैंक से जोड़कर देख रही है । इसी को लेकर शिवसेना भाजपा और जेडीयू पर राजनीति करने का आरोप लगा रही है ।

The News Agency
www.thenewsagency.in