जनविरोधी कृषि कानूनों के खिलाफ 8 नवंबर रविवार को इंदौर में किसान संगठनों का सम्मेलन

जनविरोधी कृषि कानूनों के खिलाफ 8 नवंबर रविवार को इंदौर में किसान संगठनों का सम्मेलन

लखनऊ ।। केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में लोकतांत्रिक मर्यादाओं को ताक पर रखकर पारित किए गए किसान विरोधी काले कानूनों के खिलाफ इंदौर में विभिन्न किसान संगठनों के आवाहन पर 8 नवंबर रविवार को दोपहर 12:00 बजे से किसान सम्मेलन का आयोजन इस प्रेस क्लब सभागृह में आयोजित किया गया है |

सम्मेलन को नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर वामपंथी नेता जसविंदर सिंह मनीष श्रीवास्तव राहुल राज रामनारायण कोरिया विजय शर्मा सहित कई वक्ता संबोधित करेंगे उक्त जानकारी देते हुए सर्व रामस्वरूप मंत्री अरुण चौहान एवं प्रमोद नामदेव ने बताया कि उक्त सम्मेलन 26 27 तारीख को दिल्ली में होने वाले किसान और मजदूरों के विरोध प्रदर्शन के समर्थन में आयोजित किया जा रहा है|

इस सम्मेलन को अखिल भारतीय किसान सभा आदिवासी एकता महासभा किसान संघर्ष समिति किसान खेत मजदूर संगठन और खेत मजदूर यूनियन सहित इंदौर के विभिन्न किसान और मजदूर संगठनों ने आयोजित किया है आपने बताया अभी हाल ही में सरकार द्वारा कृषि को लेकर तीन काले कानून सभी संवैधानिक मर्यादाओं को ताक पर रखकर पास किए हैं ।

भारतीय श्रम कानूनों में भी बदलाव किए हैं जिससे किसान और मजदूर दोनों की परेशान हुए हैं उनकी रोज़ी-रोटी संकट में पड़ी है यह कानून पूर्णता किसान विरोधी जन विरोधी कानून है। इनके लागू होने से किसान और किसानी बर्बाद हो जाएगी वहीं पर आम जनता की परेशानियां भी बढ़ेगी इनके विरोध में इंदौर के किसान संगठनों व प्रगतिशील साथियों द्वारा यह सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है ।

logo
The News Agency
www.thenewsagency.in