गुजराती जोड़ीदारों में ही होती है असाधारण प्रतिभा

गुजराती जोड़ीदारों में ही होती है असाधारण प्रतिभा

हाल ही में देश के समाचार पत्रों में प्रकाशित हुआ है कि अडानी एशिया के दूसरे और अम्बानी एशिया के प्रथम उद्योगपति बन गए हैं। यह देश के लिए गौरव की बात है। इस जोड़ी की सफलता को देखकर गुजरात के दो अन्य जोड़ियों के असाधारण प्रतिभा का उल्लेख करना भी जरुरी है।

देश में गुजरात असाधारण प्रतिभा का खान है लेकिन यह प्रतिभा मुखर तभी होती है जब गुजराती जोड़ीदार होते है। अकेले गुजराती में प्रतिभा होती तो है लेकिन जोड़ीदारों की तुलना में यह कम होती है। देश को आजादी दिलाने में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले वाले महात्मा गाँधी एवं सरदार बल्लभ भाई पटेल दोनों गुजराती थे और आज़ादी की लड़ाई में दोनों ने अग्रणीय भूमिका निभाई।

आज़ादी के बाद देश की एकता और अखंडता को मजबूत करने में सरदार बल्लभ भाई पटेल की अहम भूमिका रही। इन दोनों जोड़ीदार गुजरातियों की प्रतिभा असाधारण थी लेकिन कार्यशैली अलग अलग थी। महात्मा गाँधी जहाँ सत्य और अहिंसा का रास्ता अपनाते हुए आगे बढे, उनके बारे में यह कहा जाता है-

दे दी हमें आज़ादी बिना खडग बिना ढाल

साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल

आंधी में भी जलती रही गांधी तेरी मशाल

साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल

यह गाँधी की खूबसूरती थी जो दो लाइनों में व्यक्त की गयी है। निहत्थे गांधी अपने आत्मबल और प्रतिभा तथा ईमानदारी के साथ अंग्रेजों पर भारी पड़े। आज जब तकनीकी युग है तब भी नेता या हम अपने सही संदेशों को आमजन तक नहीं पंहुचा पाते जबकि हर हाथ में मोबाइल, अखबार और संचार के तमाम माध्यम उपलब्ध है लेकिन कल्पना कीजिये कि महात्मा गाँधी की सत्य, आत्मविश्वास और ईमानदारी से देशहित में की जा रही लड़ाई कितनी मजबूत थी कि गाँधी के आवाहन पर ढाका, इस्लामाबाद, कराची, दिल्ली, बम्बई में लाखों लाखों की संख्या में लोग कैसे पहुंचते थे, यह आज भी सोचने का विषय है।

गाँधी जी जिस आजादी की लड़ाई को लड़ रहे थे उसमे भारत, पकिस्तान और बांग्लादेश तीनों शामिल थे। यह गाँधी की प्रतिभा और ईश्वरीय शक्ति की ताकत थी कि सत्यवचन के वाइब्रेशन- टेलीपैथी हवा में इस तरीके से गूंजती थी कि जो वह सोचते थे वह देश के हर वर्ग, हर सम्प्रदाय को वाइब्रेशन- टेलीपैथी के माध्यम से एहसास हो जाता था और वह गाँधी के साथ मैदान में आ जाते थे।

गाँधी के बाद दूसरी सबसे बड़ी गुजराती शख्सियत आजाद भारत के सबसे पहले गृह मंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल थे जिन्होंने अपने दृढ़ इच्छा शक्ति से 500 छोटी-बड़ी रियासतों को जोड़कर एक मजबूत भारत का निर्माण किया। दोनों में दृढ़ इच्छा शक्ति, ईमानदारी और राष्ट्रप्रेम एक सामान था और इसी ताकत से इस जोड़ी ने देश की आजादी और अखंड भारत का निर्माण किया।

वर्तमान समय में दो गुजराती जोड़ी देश और दुनिया के क्षितिज पर छाये हुए है। एक व्यावसायिक जोड़ी अडानी और अम्बानी की है तो दूसरी राजनीतिक जोड़ी नरेंद्र मोदी और अमित शाह की है। देश की अर्थव्यवस्था बैठ गयी है। बेरोजगारी दर चरमसीमा पर है। कोरोना संकट के दौरान 5 करोड़ बेरोजगारी बढ़ी है। छोटे से बड़े उद्योग-धंधे वाले परेशान है। उनकी व्यावसायिक स्थिति बहुत ख़राब है। सरकार के सभी प्रतिष्ठान निरंतर घाटे में होने के कारण यही दो गुजराती व्यावसायिक जोड़ी अडानी और अम्बानी उन्हें खरीद रही है।

देश और दुनिया जब आर्थिक मंदी से गुजर रहा है तब गुजराती अडानी और अम्बानी की व्यावसायिक जोड़ी दिन दूगना और रात चौगुना लाभ कमा कर एशिया में प्रथम और दूसरे स्थान पर पहुंच गए है। अम्बानी नंबर एक है तो अडानी भी दूसरे स्थान पर पहुंचे है। अडानी और अम्बानी की ग्रोथ भी अर्थशास्त्रियों के लिए रिसर्च का विषय है। अडानी और अम्बानी की जोड़ी ऐसा अर्थमैटिक का हिसाब रखती है और व्यवसाय का खाका ऐसे तैयार करती है कि विपरीत परिस्थितियों में भी लगातार ग्रोथ हो रहा है।

भारत सरकार को अडानी और अम्बानी के बिजनेस मॉडल का एक बहुत बड़ा विश्वविधालय स्थापित करना चाहिए जिसमे इनके ग्रोथ के मॉडल का रिसर्च हो और उसे देश के सभी उद्योगपतियों के लिए इसे आदर्श मॉडल का रूप दिया जाये। इन दोनों व्यावसायिक गुजराती जोड़ी पर यह आरोप जरूर लग रहे हैं कि सत्ता में राजनीतिक जोड़ी नरेन्द्र मोदी और अमित शाह इस व्यावसायिक जोड़ी को संरक्षण दे रहे है। यह आरोप कितना सही और कितना गलत है यह अलग की बात है लेकिन एक बात तो सत्य है कि अमित शाह और मोदी के संरक्षण में गत 7 वर्षों में अडानी और अम्बानी की जोड़ी ने अप्रत्याशित रूप से कई गुना ग्रोथ किया है।

व्यावसायिक जोड़ी के बाद तीसरी राजनीतिक जोड़ी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की है। इस जोड़ी ने भी आज़ाद भारत में सियासत की उचाईयों का एक नया मॉडल कायम किया है। दो सदस्यों वाली भाजपा को मोदी के नेतृत्व और अमित शाह के मैनजमेंट ने गुजारती प्रतिभा से 303 की संख्या पंहुचा दी। आज देश में मोदी और अमित शाह ही देश की सबसे ताकतवर और लोकप्रिय नेता के रूप में है।

केन्द्र में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार आज़ादी के बाद पहली बार गुजराती जोड़ी ने ही बनाई है। इस राजनीतिक जोड़ी ने भी देश में सियासत का नया मॉडल दिया है। जिसे लोग, पक्ष और विपक्ष अपने अपने चश्मे से देख रहे है। समर्थक देश को बनाने वाली जोड़ी मानते है तो विरोधी देश को बर्बाद करने वाली जोड़ी कहते हैं।

खैर, आज़ादी के पहले और आज़ादी के बाद इन तीन अलग-अलग गुजराती जोड़ियों ने असाधारण प्रतिभा का परिचय दिया है लेकिन यही पर यह माना जा रहा है कि भाजपा को आगे लाने में गुजराती लाल कृष्ण आडवाणी और अटल बिहारी बाजपेयी की जोड़ी ने भी देश को आगे बढाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है लेकिन चुकि लालकृष्ण आडवाणी गुजराती थे और अटल बिहारी बाजपेयी उत्तर प्रदेश से जुड़े थे इसीलिए लालकृष्ण आडवाणी की गुजराती जोड़ी नहीं बन पाई और वह भाजपा के एजेंडे के आधार पर बहुमत का आकड़ा लेकर प्रधानमंत्री नहीं बन सके।

हम यह सकते है कि गुजरातियों की प्रतिभा असाधारण है लेकिन वह सफलता के शीर्ष पर तभी पहुंचते है जब जोड़ीदार होते हैं।

(लेखक उत्तर प्रदेश के नामचीन राजनैतिक विश्लेषक हैं और पूर्व में सहारा समय उत्तर प्रदेश के स्टेट हेड रहे हैं, विचार उनके निजी हैं)

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in