नीब करोली बाबा की अनंत कथाएँ : दिगम्बर रूप मे बाबा

नीब करोली बाबा की अनंत कथाएँ : दिगम्बर रूप मे बाबा

पूरनदा बाबा के बहूत भक्त थे । पूरन दा के पिता के साथ बाबा ने एक बार लीला कर डाली । उस दिन शिवरात्रि के दिन पिताजी गोला नदी, काठगोदाम नामक शिवभूमि में स्नान-पूजा हेतु चले गये। वहाँ एक शिवलिंग समान छोटी शिला का प्रतिष्ठापन कर उसी के लक्ष्य कर शिवार्चन, रूद्राभिषेक करने लगे । परन्तु थोड़ी ही देर में उन्होंने देखा कि उस शिवलिंग की जगह स्वंय महाराजजी विराज गये।

नंग-धडंग-दिगम्बर रूप !! पिताजी को अपनी ही दृष्टि पर भ्रम हो गया। उन्होंने आँखें बन्द कर ली और जब पुनः आँखें खोली तो वही दृश्य । अब उन्होंने दोगुने उत्साह से अभिषेक करना प्रारम्भ कर दिया । बाबा भी बैठे रहे और अभिषेक कराते रहे । और जब आरती होने लगी तो महाराजजी अंतर ध्यान हो गये । ये था बाबा का शिव रूप 🙏🙏

जय गुरूदेव

-- पूजा वोहरा/नयी दिल्ली

Related Stories

The News Agency
www.thenewsagency.in