मैंने २००६ में महाराजजी का सपना देखा,  उन्होंने सपने में मेरी पीठ पर कई बार वार किया!

मैंने २००६ में महाराजजी का सपना देखा, उन्होंने सपने में मेरी पीठ पर कई बार वार किया!

मैंने २००६ में महाराजजी का सपना देखा था।उन्होंने सपने में मेरी पीठ पर कई बार वार किया और वही कंबल पहने हुए थे जैसा कि कई तस्वीरों में देखा गया है।मुझे कभी नहीं पता था कि वह कौन थे और मैंने ऐसा सपना क्यों देखा।२०१० में,मेरे पिताजी मुझे भारत लाए (मेरे २१वें जन्मदिन के लिए एक उपहार)। मैं शिरडी में शिरडी (साईं)बाबा मंदिर और राघवेंद्र स्वामी के वृंदावन को देखने के लिए मंत्रालयम गया।

रास्ते में हम हैदराबाद के बिड़ला मंदिर में रुके जहाँ मंदिर संगमरमर का बना था।वहाँ मैंने महाराजजी को देखा।उस समय में भी मै नहीं जानता था कि वह कौन थे।उन्होंने मुझसे सिंगापुर के सिक्के मांगे और तमिल में मुझसे बात की जब उन्हें पता था कि मैं केवल तमिल बोल सकता हूं।वहाँ के बाद उन्होंने मुझे हर रोज "श्री राम जय राम जय जय राम"कहने के लिए कहा।वापस आने के 3 सप्ताह बाद मुझे एक यूट्यूब वीडियो मिला और मुझे यह जानकर झटका लगा कि मेरे सपने में जिस आदमी को मैंने देखा था और जिस आदमी को मैंने मंदिर में देखा था,वह महाराजजी थे और उन्होंने बहुत साल पहले महा समाधि ले ली थी।

I dreamt of Maharajji in 2006.He hit me on my back a few times in my dream and was wearing the same blanket as seen in many photos.I never knew who he was and why i had such a dream.In 2010,This year my dad brought me to India (a gift for my 21st Birthday).

I went on a piligrimage to Shirdi (Sai) Baba Mandir in Shirdi and to Mantralayam to see Rhagavendra Swami's Brindavan.On our way we stopped at Hyderbad's Birla Mandhir where the temple was made of marble.

There I saw Maharajji. That point in time I still did not know who he was. He asked me for Singapore coins and spoke to me in Tamil once he knew I could only speak Tamil. There after he told me to say "Sri Ram Jaya Ram Jaya Jaya Ram"everyday.

3 weeks after I got back I chanced upon a youtube video and I was shock to know that the man in my dream and the man I saw in the temple was Maharajji and that he had maha samadhi so many years ago.

- Maharajji Love

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in