नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब एक अध-बूढ़ा ग्रामीण कम्बल ओढ़े, बीड़ी पीते एकाएक प्रगट हो गया!

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब एक अध-बूढ़ा ग्रामीण कम्बल ओढ़े, बीड़ी पीते एकाएक प्रगट हो गया!

श्री माँ से प्रेरित किये जाने पर चोपड़ा जी जब देहरादून से चलकर उक्त भूमि की वास्तविक स्थिति (जिसका तब किसी को ज्ञान न था) जानने के लिये चले तो सीधी सड़क से न जाकर उनकी कार बाइ-पास से निकली जहाँ एक स्थान पर उन्होंने पाया कि मार्ग उस स्थान पर दो ओर को फूट गया है।

चोपड़ा जी ने निरर्थक भटकने की अपेक्षा यही उचित समझा कि पास की दूकानों से बाबा जी की उस भूमि का अता-पता मालूम कर लें। पर तब किसको मालूम था उस भूमि का इतिहास और कौन बता पाता। तभी वहाँ पर एक अध-बूढ़ा ग्रामीण कम्बल ओढ़े, बीड़ी पीते एकाएक प्रगट हो गया !! और चोपड़ा जी के बिना पूछे ही उसने क्षेत्र का पता और उस ओर का रास्ता भी बता दिया। अपनी सुविधा देखते हुए चोपड़ा जी ने उस ग्रामीण को आग्रह कर कार में बिठा लिया ।

और कार के क्षेत्र तक पहुँचने तक उस ग्रामीण ने एकदम शुद्ध उच्चारण के साथ स्पष्ट अंग्रेजी में उस क्षेत्र के अते-पते का, बाबा जी द्वारा उस भूमि के अधिग्रहण किये जाने का, बाबा जी द्वारा मंदिर तथा चहारदीवारी निर्माण हेतु डेढ़ लाख ईंटें जमा किये जाने का, झोपड़ी एवं लघु-हनुमान स्थापन आदि का पूरा पूरा विवरण एवं वृतान्त कह डाला !!

साथ में उस व्यक्ति का नाम भी जिसके पास वह जमीन अमानत बतौर रखी गई थी तथा तत्कालीन जंगलात के अफसरान एवं एम० एल० ए० जो इस अधिग्रहण से जुड़े थे, उनके नाम भी सिलसिलेवार बता दिये। उस निपट देहाती लगने वाले व्यक्ति से शुद्ध अंग्रेजी में बताया गया यह पूरा इतिहास यद्यपि चोपड़ा जी सुनते रहे पर तथ्य न समझ पाये कि यह सब उन्हें कौन बता रहा है । (समझने भी कैसे देते महाराज जी ?)

परन्तु जब क्षेत्र आ गया तो वह ग्रामीण यह कहता कार से उतर गया कि जो आदमी भीतर बैठा है उससे वह मिलना नहीं चाहता। और इसी बीच श्रीमती एवं श्री चोपड़ा का ध्यान कुछ क्षणों के लिये जब क्षेत्र की ओर गया तो वह व्यक्ति ऐसा लापता हो गया (जैसे एकाएक प्रगट भी हो गया था कि चारों ओर देखने पर भी वह दृष्टिगोचर न हो पाया— उस सीधी हरिद्वार-ऋषीकेश रोड पर भी नहीं !! तभी दोनों का माथा ठनका 'कहीं बाबा जी तो नहीं थे स्वयँ ?' पर तब तक तो देर हो चुकी थी ।

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in