नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: हरिद्वार में हर की पौड़ी में बहती भक्तिनों को एक कम्बल ओढ़े व्यक्ति (बाबा) ने बचाया

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: हरिद्वार में हर की पौड़ी में बहती भक्तिनों को एक कम्बल ओढ़े व्यक्ति (बाबा) ने बचाया

हम कई महिलाएँ उत्तराखण्ड के तीर्थों की यात्रा हेतु हरिद्वार पहुँच गई थीं और जैसा हम करती आ रही थीं- कैंची धाम मे, वृंदावन में तथा अन्य धामों में - हम मुँह अंधेरे ही स्नान को निकल पड़ी थीं। उस दिन समय का भी कुछ अनुमान नहीं रहा । हर की पौड़ी पहुँचने पर देखा कि एकदम वीरान है ।

बिजली की रोशनी जहाँ तक पहुँच रही थी वहाँ तक तो उजाला था- बाकी चारों ओर घुप अंधेरा । नहाते नहाते अंधेरे में मैं कुछ आगे बढ़ गई तो अपना संतुलन खो बैठी और जल के वेग से मेरे पाँव उठ गये मैं प्रवाह के साथ बह चली । जब मैं अपने को रोक पाने में असमर्थ हो गई तो चिल्लाई, "अरे ! मैं बह गई ।" यह सुनकर साथ में आई अध्यापिका मुझे बचाने गंगा जी में कूद गई |

पर एक तो जल-प्रवाह का वेग और ऊपर से मेरे भारी-भरकम शरीर का वजन- कहाँ झेल पाती वह दुबली-पतली महिला । उधर बदहवासी में मैंने उसे जकड़ लिया तो वह भी मेरे साथ बह चली । कुछ देर बाद में इतना पानी पी चुकी थी कि अचेत हो गई। चेतना लौटने पर पाया कि में पौड़ी से दूर पहले पुल के प्लेटफ़ार्म पर पड़ी हूँ । धीरे-धीरे मैं कुछ अधिक चैतन्य और स्वस्थ हुई ।

पास तब साथ की महिलाओं ने बताया कि हमको डूबते देख लीला भाई (अब स्वर्गीय) रोते हुए प्लेटफार्म पर बहाव की तरफ दौड़ती हुई चिल्लाती रहीं महाराज ! हरिप्रिया डूब रही है, बचाओ । तभी सहसा कम्बल ओढ़े एक आदमी वहाँ प्रगट हो गया और उसने अपना कम्बल फेंक पानी में छलांग लगा दी तथा थोड़ी देर में हम दोनों को किनारे खींच लाया ।

उसी ने मेरे पेट से बहुत सारा पानी निकाल दिया । परन्तु तब हम में से किसी को भी यह ध्यान न रहा कि वह व्यक्ति कौन था । अपना काम कर वह बिना कुछ बोले चला भी गया । इस लीला का स्पष्टीकरण महाराज जी ने स्वयं किया, हमारे कैंची लौटकर उन्हें प्रणाम करते ही - नाराज़गी की मुद्रा में केवल इतना भर कह कर - "चली जाती हैं आधी रात को ही स्नान करने । फिर हमें बचाना पड़ता है !!” (हरिप्रिया, नैनीताल)

(अनंत कथामृत के सम्पादित अंश)

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in