नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: आपने खीर तैयार की है? मैं उसी के  लिए आया हूं!

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: आपने खीर तैयार की है? मैं उसी के लिए आया हूं!

एक दिन जब महाराज जी इलाहाबाद में नहीं थे, मेरी माँ ने खीर बनाई, जो अक्सर देवी-देवताओं को अर्पित की जाती है। मेरी माँ ने उसे एक बड़े प्याले में रख दिया और कहा, “आज बाबाजी आ जाएँ तो बहुत अच्छा रहेगा। उनकी सेवा के लिए मेरे पास यह खीर होगी।” उसी दिन थोड़ी देर बाद जब हम खाना खा चुके थे, बाबाजी अचानक आ गए।

“आपने खीर तैयार की है? मैं उसी के लिए आया हूं।" उन्हें खीर खाते हुए देखकर माँ बहुत खुश हुई। जब वह समाप्त हो गयी, तो उन्होंने कहा, (मानो अचानक याद आ रहा हो) “ओह, मैंने क्या गलती कर दी! आज एकादशी [उपवास का दिन] है, और यहाँ मैं खीर खा रहा हूँ !" यह था बाबाजी का तरीका, जिसकी मिठास हमें याद है।

- बाई हिस ग्रेस

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in