नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब माँ ने महाराज जी से कहा चलो नहा लो और फिर …

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब माँ ने महाराज जी से कहा चलो नहा लो और फिर …

एक बार माँ महाराज जी के पास यह कहते हुए आईं, "महाराज जी, आओ स्नान कर लो।" "चले जाओ," उसने जवाब दिया। "मैं नहीं चाहता। आओ, केके, हम वृंदावन जाएंगे!" महाराजजी लेटे हुए थे, सर्दी से बीमार थे। श्रीमती सोनी, जिन्होंने कभी उन्हें इस तरह बीमार पड़ा हुआ नहीं देखा था, ने उनके पैर रगड़े और कहा, "ओह, महाराज जी, आपके पैर कितने ठंडे हैं।"

"क्या वे हैं, माँ?" वह एक छोटे बच्चे की तरह था। यह अमावस्या थी, जिसे देखना शुभ होता है। तो जैसे एक बच्चे के साथ होगा, उसने कहा, "महाराज जी, दरवाजे पर आओ और अमावस्या को देखो और तुम बेहतर हो जाओगे।" "क्या मैं, माँ?" उसने उसे बहला-फुसलाकर दरवाजे तक उसकी मदद की। "माँ, मुझे दिखाई नहीं दे रहा है।"

"वहाँ है।" "कहाँ, माँ?" अंत में: "ओह, मैं इसे देखता हूँ।" फिर उसने कहा, "अब कल तुम सब ठीक हो जाओगे।" उसने उसे बिस्तर पर वापस लाने में मदद की, और अगले दिन वह बेहतर था।

Related Stories

No stories found.