नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब महाराज जी सुबह चार बजे उठ पड़े और चल दिए एक बीमार बालक को ठीक करने

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब महाराज जी सुबह चार बजे उठ पड़े और चल दिए एक बीमार बालक को ठीक करने

एक सुबह 4:00 बजे जब महाराज जी मेरे घर पर ठहरे हुए थे, उन्होंने कहा, "चलो, चलते हैं।" मैंने कहा, "महाराज जी, मैं अपनी कार लाऊंगा और तुम्हें ले जाऊंगा।" लेकिन उन्होंने कहा, "नहीं, मैं चलूंगा।" तो मुझे मेरी सैंडल मिल गई। महाराज जी नंगे पांव चले गए। मुझे नहीं पता था कि हम कहाँ जा रहे हैं, लेकिन मैंने हमेशा खुद को महाराज जी को सौंप दिया, क्योंकि भले ही उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता कि जगह कहाँ है, वे जानते थे।

अक्सर महाराज जी पूछते थे, "क्या आप जानते हैं कि फलाना कहाँ है?" मैं नहीं कहूंगा और फिर वह हमें वहां ले जाएगा। इसलिए मैंने खुद को उनके हवाले कर दिया। हम एक झुग्गी बस्ती में चले गए। महाराज जी एक झोंपड़ी में केवल एक खिड़की जैसे दरवाजे के पास आए, जिसे उन्होंने धक्का देकर खोल दिया और अंदर देखा। वहाँ लगभग बारह वर्ष का एक बालक खाट पर लेटा हुआ था, बहुत बीमार था। महाराज जी ने लड़के से कहा, "उठो, तुम बीमार नहीं हो।" जैसे ही लड़का उठ कर दीवार के सहारे टिका, महाराज जी पलंग पर लेट गए।

इस बिंदु पर, बूढ़ी, अंधी दादी जो लड़के की देखभाल कर रही थी, जाग गई और पूछा, "कौन है?" मैंने उत्तर दिया, "एक महात्मा (महान आत्मा) आए हैं।" महाराज जी ने उससे पूछा, "क्या उसे दो सप्ताह से ठंड लग रही है?" उसने हाँ कहा। लड़के को शायद टाइफाइड बुखार था। तब माँ असहज थी क्योंकि उसके पास महाराज जी को देने के लिए कुछ नहीं था। महाराज जी ने यह देखा और उसमें पानी के साथ एक पुराना कैन देखा "माँ, क्या तुम्हारे पास पानी है? मुझे बहुत प्यास लग रही है।"

कम से कम पानी देने का अवसर पाकर वह खुश थी। उन्होंने पहले उसे पी लिया और फिर मुझे कंटेनर की पेशकश की, लेकिन वह जानते था कि मैं इसे कभी नहीं पीऊंगा, और मैंने कहा नहीं। हम तब चले गए, और लड़का ठीक हो गया।

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in