नीब करोली बाबा की अनंत कथाएँ : भक्तों की अकाल मृत्यु टालना

नीब करोली बाबा की अनंत कथाएँ : भक्तों की अकाल मृत्यु टालना

बाबा जी उस भक्त की मृत्यु टाल देते थे जो नौजवान होता था और अकाल मृत्यु होने जा रहा होता था । लेकिन जिसकी आयु पूरी हो चुकी होता और वो बूढ़ा हो गया होता उसे केवल अपना दर्शन दे देते और वे भी तब जब वे भक्त मृत्यु - शैय्या पर पड़े-पंडे बाबा जी से अन्तिम दर्शन के लिये अंतरनाद कर रहा होता ।

एक भक्त के पिताजी के कई आपरेशन हुए थे और हर आपरेशन से पहले और बाद में बाबा उसके घर अवश्य गये ।आख़िरी बार जब उनके पिताजी बीमार पड़े तो बार बार आग्रह करने पर भी बाबा उनके यहाँ नहीं आये ।इससे भक्त के परिवार वाले इस नतीजे पर पहुँचे कि उनके पिताजी का समय पुरा हो चुका है ।जब पिताजी गुज़र गये तो बाबा उनके घर आये ।

जय गुरुदेव

रहस्यदर्शी

श्री नीब करौरी बाबा

Related Stories

The News Agency
www.thenewsagency.in