नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: पागल को ठीक करना

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: पागल को ठीक करना

एक दिन कुछ लोग एक पागल युवक को जंजीरों से बाँधकर बाबा जी के पास ले आये । बाबा जी दूर ही से चिल्ला कर बोले, "खोल दो इसकी जंजीरें।" पर लोगों ने कहा, महाराज, “यह आदमी वहशी हो जाता है । मारपीट करता है ।"

बात सत्य थी, पर फिर भी बाबा जी पुनः बोल उठे, "नहीं, छोड़ दो इसे ।" और जब जंजीरें खोल दी गईं तो बाबा जी ने उस पागल से कहा, “पेड़ पर चढ़ो ।” वह पेड़ पर चढ़ गया । “अब उतर जाओ ।" वह उतर गया ।

ऐसा उससे बाबा जी महाराज ने कई बार करवा दिया तो अन्त में वह पागल स्वयँ बोल उठा, "पेड़ पर चढ़ने-उतरने से क्या होगा ?" बाबा जी ने तब कहा, "ले जाओ इसे, अब यह ठीक हो गया है !!"

महाराज जी की जय

(अनंत कथामृत से साभार)

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in