नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब भारतीय सेना के एक मेजर ने महाराज जी को एक ही वक्त में दो जगह देखा

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब भारतीय सेना के एक मेजर ने महाराज जी को एक ही वक्त में दो जगह देखा

मेजर सुनंदा ने कैंची में बाबा के दर्शन किए और फिर कार से रानीखेत के लिए रवाना हुए। रास्ते में उन्होंने बाबा को खैरना ब्रिज पर बैठे देखा। मेजर सुनंदा बाबा को अभी-अभी कैंची में छोड़ कर गए थे, तो उन्हें वहाँ देखकर वे चकित रह गए। उसने गाड़ी रोकी और उन्हें प्रणाम करते हुए पूछा, "आप यहाँ कैसे आ गए ?" बाबा ने उत्तर दिया, "आपने बिना प्रसाद लिए कैंची से चले गए, इसलिए मुझे यहाँ आना पड़ा।" बाबा ने अपने कंबल के नीचे से कुछ आम निकाले और उन्हें प्रसाद के रूप में दिए। यह आम का मौसम नहीं था, इसलिए मेजर सुनंदा के लिए यह एक और आश्चर्य की बात थ।

~द डिवाइन रियलिटी

Major Sunanda had Baba's darshan at Kainchi and then left for Ranikhet by car. On the way he saw Baba sitting at Khairna Bridge. Major Sunanda had just left Baba at Kainchi, so he was surprised to see him there. He stopped the car, and bowing to him in salutation, he asked, "How come you are here?"

Baba replied, "You left Kainchi without taking prasad, so I had to come here." Baba took some mangoes out from under his blanket and gave them to him as prasad. It was not the mango season, so it came as another surprise for Major Sunanda.

~The Divine Reality

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in