नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब उनके लिए ट्रेन की भरी बर्थ अचानक ख़ाली मिलीं!

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जब उनके लिए ट्रेन की भरी बर्थ अचानक ख़ाली मिलीं!

एक बार महाराज जी ने मुझे उसी दिन जाने वाली ट्रेन में दो प्रथम श्रेणी, वातानुकूलित स्थानों के लिए आरक्षण करने के लिए कहा। सभी अधिकारियों ने मुझे बताया कि यह कलकत्ता से कालका (भारत के पूर्व से पश्चिमी तट तक) के लिए पूरी तरह से बुक था। फिर भी, तैयार रहने के लिए, मैंने दो अनारक्षित टिकट खरीदे।

मुझे यकीन था कि मैं अपना समय बर्बाद कर रहा हूं और हमें उन्हें कैश करना होगा। महाराज जी स्टेशन में चले गए, प्लेटफॉर्म पर धीरे-धीरे चले, और एक जगह रुक गए। जब ट्रेन आई तो महाराजजी के सामने एक प्रथम श्रेणी, वातानुकूलित कार को सीधे रोका गया। मैंने देखा था कि उन्होंने खड़े होने के लिए उसी जगह को कैसे चुना, इसलिए मैंने कंडक्टर से, जो वहीं खड़ा था, उस कार में दो बर्थ के लिए पूछा, और उसने कहा, "क्या! क्या तुम पागल हो? यह ट्रेन से भरी हुई है कलकत्ता से कालका!"

उस समय मैंने अपना आश्वासन खो दिया और महाराज जी की ओर देखा। उन्होंने केवल एक उंगली उठाई और चुपचाप कहा, "अटेंडेंट। इसलिए मैं कार अटेंडेंट के पास गया और फिर से दो बर्थ माँगी, और उसने कहा, "हाँ, हाँ, आपके लिए जगह है। आप देखिए, एक पार्टी जो स्पष्ट रूप से आरक्षित थी, उसे भाग लेने के लिए मुगल सराय में उतरना था। अप्रत्याशित। इस कार में दो बर्थ खाली हैं।" वह कार सीधे महाराजजी के सामने थी।

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in