नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: निराशा के बीच महाराज जी ने सन्यासी बनने की इच्छा पर क्या कहा?

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: निराशा के बीच महाराज जी ने सन्यासी बनने की इच्छा पर क्या कहा?

एक बार मैं निराश महसूस कर रहा था और मैंने महाराज जी से कहा कि मैं दुनिया में नहीं रहना चाहता, कि मैं सिर्फ एक संन्यासी बनना चाहता हूं। "आप अभी सन्यासी नहीं हो सकते। इन लोगों को यहाँ देखो," महाराज जी ने चारों ओर बैठे पश्चिमी लोगों की ओर इशारा करते हुए कहा।

"यहाँ के इन भक्तों ने भौतिक जीवन को सीमा तक भोगा है और आपने अभी तक नहीं किया है। यदि आप अभी सन्यासी बने हैं तो यह आपके लिए बहुत कठिन होगा। आपको पहले इन चीजों का स्वाद लेना चाहिए, और फिर आप इन्हें छोड़ सकते हैं।"

Related Stories

No stories found.