नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: महाराज जी मुझसे "कर्म ले रहे थे"

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: महाराज जी मुझसे "कर्म ले रहे थे"

महाराज जी के पास ले जाने के लिए एक दर्जन संतरे खरीदे। हम उस छोटे से महल में पहुँचे जहाँ महाराजजी जा रहे थे और जहाँ पहले से ही बहुत से भारतीय भक्त इकट्ठा हो चुके थे और उनके कमरे में बंद थे। जैसे ही हमारी उपस्थिति का पता चला, हमें लकड़ी की मेज के ठीक सामने वाले स्थान पर धकेल दिया गया, जिस पर महाराज जी बैठे थे। मैंने उनको संतरे भेंट किए। मेज पर पहले से ही बहुत सारे फल और कुछ मिठाइयाँ थीं।

लेकिन फिर कुछ ऐसा हुआ कि उन्होने मुझे बहुत पसंद किया। महाराज जी मेरे संतरे के पास ऐसे जाने लगे जैसे उन्होंने पहले कभी खाना नहीं देखा हो। जैसे ही प्रत्येक संतरा खोला जाता था, वह उसे पकड़ लेते थे और बहुत तेजी से खाते थे और मेरी आंखों के सामने उसने आठ संतरे खा लिए। बाकी चारों को महाराज जी के कहने पर स्कूल के प्रिंसिपल ने मुझे खाना खिलाया।

बाद में मैंने एक करीबी भारतीय मित्र केके से इस अजीबोगरीब व्यवहार के बारे में पूछा। केके ने समझाया कि महाराज जी मुझसे "कर्म ले रहे थे" और यह एक ऐसी तकनीक थी जिसके द्वारा वह अक्सर ऐसा करते थे। (आर.डी.)

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in