नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: बहुत प्यासा हूँ, थोड़ा पानी पिलाओ

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: बहुत प्यासा हूँ, थोड़ा पानी पिलाओ

कभी-कभी घरों में जाते समय वह दरवाजे पर आकर कहता कि उसे बहुत भूख लगी है और पूछता है कि क्या वह खा सकता है। बहुत गरीब घरों में जहां खाना नहीं होता, वह बस इतना कहते थे कि बहुत प्यासा है और पानी मांगो।

लखनऊ में महाराजजी कुछ लोक निर्माण अधिकारियों को एक कार में शहर के सबसे गरीब हिस्से में ले गए जहां ये अधिकारी सड़कों और स्वच्छता की उचित देखभाल नहीं करते हैं। एक झोंपड़ी से उसने एक मुसलमान को बुलाया (जिसे महाराजजी "मुसलमान" कहते थे) और उन्होंने गले लगाया, और फिर महाराजजी ने कहा,

"मैं बहुत भूखा हूँ।"

"लेकिन महाराजजी, मेरे पास खाना नहीं है।"

"एपी! दुष्ट एक! आपके पास छत में छिपी हुई दो रोटियां हैं!" वह आदमी हैरान था कि महाराजजी जानते थे, और उन्हें मिल गया। भले ही महाराजजी और अधिकारियों ने अभी-अभी खाया था, उन्होंने एक को बड़े चाव से खाया और दूसरे को हिंदू ब्राह्मणों सहित अधिकारियों को सौंप दिया, जो कभी किसी मुसलमान द्वारा तैयार भोजन नहीं करेंगे, और कहा, "प्रसाद ले लो!"

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in