नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: विशाल-रूप हनुमान मूर्ति, शंकर भगवान का एक अत्यन्त भव्य मंदिर निर्मित हुआ

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: विशाल-रूप हनुमान मूर्ति, शंकर भगवान का एक अत्यन्त भव्य मंदिर निर्मित हुआ

विशाल-रूप हनुमान मूर्ति एवं हनुमान मंदिर के मध्य क्षेत्र में वैद्यनाथ कम्पनी की श्रीमती गीता देवी ने भी शंकर भगवान का एक अत्यन्त भव्य मंदिर निर्मित करवा दिया। (एकादशरुद्रावतार हनुमान जी अपने पूर्ण रूप शंकर जी के बिना कैसे रहते !!) इस मंदिर में शिवलिंग का प्रतिष्ठापन भी हनुमान जयन्ती (१९६३) के पुनीत पर्व में अलौकिक यथार्थ के लेखक श्री रवि प्रकाश पाण्डे राजदा द्वारा पूरे विधि विधान के साथ सम्पन्न किया गया। यह मंदिर भी संगमरमर से आच्छादित है ।

आज बाबा जी महाराज के बीरभद्र का यह क्षेत्र एक ओर इन दो मंदिरों एवं विघ्नविनाशक विशाल-रूप हनुमान जी से विभूषित है, और दूसरी ओर श्री माँ-महाराज की कुटी, आवासीय कुटीनुमा भवनों एवं एक बड़े भण्डारगृह से आच्छादित हो गया है। बाबा जी की मंशा से वर्ष १९६२-६३ तथा ६४ के हनुमान जयन्ती के पावन पर्व में प्रति वर्ष १८-२० हजार की संख्या में साधु महात्माओं, स्कूली बच्चों, भक्तों, सेवकों एवं दर्शनार्थियों ने बाबा महाराज, हनुमान जी एवं शंकर जी का भण्डारा-प्रसाद पाया ।

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in