नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: दक्षिण भारत की भजन मंडली और रसम, साम्बर का प्रसाद!

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: दक्षिण भारत की भजन मंडली और रसम, साम्बर का प्रसाद!

मैं वृंदावन में महाराज जी के दर्शन करने के लिए एक प्रसिद्ध गायक सहित कुछ स्वामियों को ले गया। इससे पहले कि मैं उनका परिचय दे पाता, महाराज जी ने कहा, "मैं उन्हें जानता हूं। उन्हें यहां बुलाओ। उन्हें कुछ चाय पीनी चाहिए। वह भजन गाना चाहते हैं।" मैंने महाराज जी को इस प्रसिद्ध दक्षिण भारतीय गायक के बारे में कभी नहीं बताया था, जिसके साथ पाँच दक्षिण भारतीय महिलाएँ थीं। महाराज जी ने चाय के लिए बुलाया, फिर मुझे अकेले अपने कमरे में ले गए और कहा, "वह बहुत अच्छे हैं। क्या उन्हें मेरे लिए गाने में परेशानी होगी? उनके गायन से मुझे बहुत खुशी होगी। क्

या उन्हें कीर्तन गाने में परेशानी होगी?" मैंने उत्तर दिया, "बाबा, आपके स्थान पर क्या परेशानी होगी?" महाराज जी बाहर आए और स्वामी को गाने के लिए कहा। स्वामी ने कुछ गाया राधा (कृष्ण के प्रिय और भक्त) और कृष्ण के बारे में भजन। उसे महसूस हुआ महाराज जी के साथ एक मजबूत संबंध। "अब तुम थक गए हो," महाराज जी ने कहा। "तुम यहाँ सांबर और रसम खाओगे! तुम यहाँ खाना बनाओगे?" महाराज जी हंस पड़े। महिलाएं हिंदी नहीं समझ पातीं।

"बोलो! मुझे बताओ! क्या तुम हर दिन यहाँ भोजन के लिए आओगे? सांभर, रसम रोज़।" मैंने महाराज जी से कहा कि हम आश्रम में नहीं रह सकते क्योंकि हम घूमना-फिरना और वृंदावन के मंदिरों में जाना चाहते हैं। "अच्छा! फिर यह करो- रोज आओ और यहाँ प्रसाद लो!" हम रोज महाराज जी के दर्शन करने आते थे, और हर बार उन्होंने हमें प्रसाद से भरने की कोशिश की। उन्होंने इस स्वामी का विशेष ध्यान रखते हुए कहा, "वह बहुत अच्छे महात्मा हैं। इस तरह के संत आपको नहीं मिलेंगे।"

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in