डीएम मैनपुरी ने किया विकास भवन का औचक निरीक्षण, मचा हड़कंप
Vernacular

डीएम मैनपुरी ने किया विकास भवन का औचक निरीक्षण, मचा हड़कंप

Team TNA

Team TNA

मैनपुरी || जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह ने आज अचानक विकास भवन में स्थित विभिन्न कार्यालयों के औचक निरीक्षण के दौरान विकास भवन में स्थित समस्त शौचालय मे गंदगी, बदबू पायी, किसी भी शौचालय में सीएफएल, ट्यूब लाइट नहीं थी, स्विच बोर्ड उखड़े हुये थे, 02 शौचालयों में तो कार्यालयों का अनुपयोगी सामान भी भरा पाया गया, किसी भी शौचालय में एग्जॉस्ट नहीं मिला, साफ-सफाई का पूरी तरह अभाव था, कई कार्यालयों में पत्रावली अस्त-व्यस्त मिलीं, अनुपयोगी, निष्प्रयोज्य सामान पर धूल जमा मिली, निष्प्रयोज्य सामान को नियमानुसार निस्तारित करने की किसी भी अधिकारी द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई, जिस कारण निष्प्रयोज्य सामान की वैल्यू लगातार घट रही है।

उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कार्यालय के अनुपयोगी सामान की नियमानुसार निस्तारित किया जाए, शौचालयों की साफ-सफाई का विशेष ध्यान दिया जाए, शौचालयों की लाइट तत्काल ठीक कराई जाए, शौचालयों की लाइट वायरिंग तत्काल ठीक कराई जाए, शौचालय के बाहर महिला-पुरुष शौचालय लिखवाया जाए, परिसर की साफ-सफाई के साथ-साथ खुली हुई वायरिंग तत्काल ठीक कराई जाए।

उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कार्यालय के अनुपयोगी सामान की नियमानुसार निस्तारित किया जाए, शौचालयों की साफ-सफाई का विशेष ध्यान दिया जाए, शौचालयों की लाइट तत्काल ठीक कराई जाए, शौचालयों की लाइट वायरिंग तत्काल ठीक कराई जाए

सिंह ने जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी कार्यालय के निरीक्षण के दौरान कक्ष में टूटी कुर्सी, अस्त-व्यस्त कंप्यूटर, खराब वायरिंग, होल्डर खराब पाए जाने पर अर्थ एवं संख्या अधिकारी को कुर्सियों की मरम्मत कराने, वायरिंग को ठीक कराए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि कार्यालय के रख-रखाव पर ध्यान दिया जाए यदि भविष्य में पत्रावलियां अस्त-व्यस्त पाई गई या सफाई का अभाव मिला तो दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कक्ष संख्या- 27 का होल्डर खराब पाया, कक्ष में रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था भी नहीं पाई, प्रादेशिक विकास दल कार्यालय कक्ष में कंप्यूटर खराब पाया, कक्ष में खेलकूद प्रोत्साहन सामग्री भरी पाए जाने पर संबंधित को निर्देशित करते हुए कहा कि तत्काल सूची तैयार कर पात्रों में खेलकूद सामग्री वितरित कराई जाए।

निरीक्षण के दौरान उन्होंने कई कमरों के जंगलों की शीशे टूटे पाए, कई कार्यालयों में अलमारियां क्षतिग्रस्त मिली, कई अलमारियों के हत्थे टूटे पाए, अधिकांश कक्षों में लगे अग्निशमन यंत्रों की अवधि समाप्त हो चुकी है, संपूर्ण विकास भवन में आग बुझाने के पर्याप्त इंतजाम नहीं मिले, कक्ष संख्या- 50 जिला विकास अधिकारी कार्यालय कक्ष में फोटोस्टेट पर धूल जमा मिली, कई अलमारियां क्षतिग्रस्त पाई गई, ट्यूबलाइट भी खराब मिली,

कक्ष संख्या-49 का स्विच बोर्ड खराब पाया गया, बाथरूम कक्ष संख्या- 17 की वायरिंग टूटी मिली, पूरे बाथरूम में सीलन पाई गई जिस पर उन्होंने मौके पर उपस्थित जिला विकास अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि विकास भवन में स्थित कार्यालयों में तत्काल सुधार दिखे, जो भी कमियां निरीक्षण के दौरान मिली है, उन्हें तत्काल दूर कराया जाए, निष्प्रयोज्य, अनुपयोगी वाहनों, सामान की नियमानुसार नीलामी कराई जाए, शौचालयों की नियमित रूप से सफाई हो, कूलरों में साप्ताहिक रूप से पानी बदला जाए ताकि एंटी लार्वा पैदा न हो सके, परिसर में जहां भी क्षतिग्रस्त होर्डिंग, बोर्ड आदि लगे हैं उन्हें तत्काल हटवाया जाए, मुख्य द्वार पर अच्छे कलर से खंभों की पुताई कराई जाए।

उन्होंने जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी, जिला पिछड़ा वर्ग अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी, सहायक अभियंता लघु सिंचाई, ए.आर. को-ऑपरेटिव, ग्रामीण अभियन्त्रण सेवा, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, आजीविका मिशन आदि कार्यालयों का निरीक्षण कर पाई गई कमियों को दूर कराने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी ईशा प्रिया, उप जिलाधिकारी सदर ऋषिराज, परियोजना निदेशक एस.सी.मिश्र आदि उपस्थित रहे।

The News Agency
www.thenewsagency.in