कांग्रेस ने योगी को ललकारा : श्रमिकों को घर पहुँचाओ या मठ में वापस जाओ

लखनऊ || कोविड-19 के चलते लगाये गये लाॅकडाउन में फंसे श्रमिकों, कामगारों को उनके घरों तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए कोई व्यवस्था न होने चलते भूखे-प्यासे ये श्रमिक पैदल ही हजारेां किमी की यात्रा करने को मजबूर हैं जिनमें महिलाएं, बच्चे और वृद्ध शामिल हैं। पदयात्रा के दौरान सैंकड़ों गरीब, मजदूरों की सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गयी है।

कांग्रेस पार्टी द्वारा इन प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए बसों की व्यवस्था की गयी है किन्तु प्रदेश सरकार द्वारा बसों को चलाने की अनुमति नहीं दी जा रही है। जिसके चलते प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू द्वारा 19 मई को आगरा-राजस्थान बार्डर पर खड़ी इन बसों को चलाने के लिए प्रशासन से आग्रह किया परन्तु प्रशासन द्वारा प्रदेश अध्यक्ष की बातों को नजरंदाज करते हुए फर्जी मुकदमा दर्ज कर उन्हें ही गिरफ्तार कर लिया गया जो प्रदेश सरकार ही तानाशाही रवैये का परिचायक है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की गैर कानूनी ढंग से की गयी तानाशाही पूर्ण गिरफ्तारी के विरोध में एवं कांग्रेस की बसों को चलाये जाने की अनुमति हेतु प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कांग्रेसजनों द्वारा धरना दिया गया एवं प्रदेश के महामहिम राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन एसीपी अभय मिश्रा को सौंपकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बिना शर्त रिहा किये जाने, श्रमिक हितों को देखते हुए उ0प्र0 के बार्डर पर खड़ी कांग्रेस पार्टी द्वारा उपलब्ध करायी गयी बसों को शीघ्र चलाने की अनुमति दिये जाने की मांग की गयी।

Leave a Reply

*