नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जेब काटी और महाराज जी का चित्र भी चला गया

नीब करौरी बाबा की अनंत कथाएँ: जेब काटी और महाराज जी का चित्र भी चला गया

केवल एक शनिवार को नहीं जा पाया वृन्दावन अपने सहकर्मियों के आग्रह पर रविवार को उनके साथ सिनेमा देखने चला गया। और उसी दिन जेब साफ हो गई. ३६६)रु० के साथ महाराज जी - का फोटो-चित्र भी चला गया !! पास में कानी कौड़ी भी न बची ।

परन्तु सोमवार को जब ऑफिस पहुँचा तो १५०)रु० का एक मनीआर्डर प्राप्त हो गया !! मेरी पत्नी ने इलाहाबाद से भेजा था पता नहीं क्यों ? मैंने तो कभी भी उन्हें कुछ भेजने को नहीं कहा था अपने १६-२० वर्ष के दौरों की नौकरी के मध्य । यही पहिला और अन्तिम मनीआर्डर भी था उनकी ओर से । वाह रे प्रभु ! पूर्व में ही सब कुछ जानकर प्रेरित कर दिया पत्नी को इस हेतु !!

और सबसे आश्चर्य की बात थी कि एलनगंज जैसे नगण्य पोस्ट आफिस से शनिवार के दिन भेजा हुआ रुपया मुझे सोमवार को ही साढ़े ग्यारह बजे आगरे में मिल गया !!

Related Stories

No stories found.
The News Agency
www.thenewsagency.in